अब्दुर्रहीम शेख की रिर्पोट,
आज़मगढ / लालगंज ब्लाक के बसही अकबाल पुर गांव में दलित बस्ती में आग लग जाने से दो दलितों के आशियाने पूरी तरह जल कर राख हो गए। जिस में ग्राम सभा बसही अकबाल पुर के प्रसिद्ध समाज सेवी एवं पूर्व प्रधान मोहम्मद सालेह ने आग बुझाने में बड़ी भूमिका निभाई। जिसमें भाई चारा की मिसाल कायम की। दलित बस्ती में आग लगने की खबर जैसे ही मुस्लिम आबादी को होती है वैसे ही मुस्लिम

आबादी से नवजवान बड़ी संख्या में दलित बस्ती में जाकर आग बुझाने का काम करते हैं और घण्टों को मेहनत के बाद आग पर काबू पाया गया लेकिन तब तक पूरा आशियाना जल कर राख हो गया। छोटू राम, मुन्ना राम का घर पूरा जल गया। गेहूं, चावल, भूसा, गाय, सायकिल समेत पूरी गृहस्ती खाक हो गई। वहीं मई महीने में होने वाली शादी के सामान और नकदी भी आग की नज़र होगया। उस समय सभी लोग जो चुनाव लड़ रहे थे सब लोग अपना निशान लेने लालगंज ब्लाक गए थे लेकिन गांव से प्रधान पद के प्रत्याशी एवं पूर्व प्रधान मोहम्मद सालेह आग बुझाने और प्रशासनिक कोरम पूरा करने के बाद ही अपना सेंबल लेने गए। आग बुझाने वालों में खास कर मोहम्मद अकमल, राधे श्याम, त्रिभुवन राम, कमलेश राम, सुनिल राम, इब्राहीम, अजमल, दशरथ राम, नेहाल, अकरम, सुभाष राम, शाह साउद, अब्दुल हलीम समेत पूरे गांव के लोग शामिल थे।