🔻भाटपार रानी,देवरिया।भाटपार रानी तहसील क्षेत्र के बखरी गांव स्थित वेदमाता गायत्री आदर्श विद्यालय के प्रांगण में शनिवार को एक साथ महान साहित्यकार डॉ सम्पूर्णानन्द की जयंती व नववर्ष का कार्यक्रम आयोजित किया गया।इस दौरान कवि मक़सूद अहमद भोपतपुरी ने अपनी रचना- नए साल का नया अरमान होना चाहिए, आदमी को

कम से कम इंसान होना चाहिए—प्रस्तुत किया।उन्होंने कहा कि एक जनवरी 1890 को काशी में जन्मे डॉ सम्पूर्णानन्द ने अपने साहित्य के माध्यम से समाज व देश को एक नई दिशा दिया।वे उत्तर प्रदेश के दो बार मुख्यमंत्री रहकर राजनीति को भी साफ-सुथरा बनाया।डॉ वेदप्रकाश तिवारी ने अपनी रचना पेश करते हुए कहा कि डॉ सम्पूर्णानन्द एक उच्च कोटि के साहित्यकार होने के साथ-साथ एक आदर्श राजनेता भी थे।मुख्य अतिथि समाजसेवी जटाशंकर सिंह ने कहा कि डॉ सम्पूर्णानन्द ने समाज के दबे कुचले लोगों की आवाज को बुलंद किया।उन्हें भुलाया नहीं जा सकता।इंजीनियर प्रमोद चौधरी ने कहा कि साहित्यकार कभी मरता नहीं है।संयोजक व विद्यालय के प्रबंधक गेनालाल यादव ने आभार प्रकट किया।यहां मुख्य रूप से प्रमोद वर्मा,शिवनाथ यादव,आशीष यादव,अजय यादव,अर्चना यादव सहित अनिशा,पूजा,अंशु,प्रीति,लीलावती, प्रियंका, आफरीना हरिश्वर, सुशील,मुकेश,पंकज,सुशील,सुजीत,नीतीश,प्रियांशू,कृश्णा,बिट्टू,पंचानन्द,माहेश्वरी, अरुण आदि छात्र-छात्राएं मौजूद रहे।